Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

शुक्रवार, 6 जनवरी 2017

नैसर्गिकता



सभ्यता    के    सशंकित    सागर    में

नत -नयन    नैसर्गिकता    की     नाव

डूबने      न    पाए  

सुदूर      है   किनारा      तो    क्या  

आज     मांझी    को

सरलता      का    सुरीला     संगीत     सुनाओ  

मृत्यु    का  भय   त्यागकर  

साहस, संयम   और    पुरुषार्थ   के

पंख     पतवार    में   लगाओ।