सोमवार, 24 मई 2021

गंगा में बहतीं लाशें

लाशों की दुर्दशा के 

अनचाहे मंज़र 

मुझे सोने नहीं देते 

ये लाशें मुझसे पूछतीं हैं 

गुलाबी रातों के हसीं ख़्वाब में 

कब तक सोए रहोगे?

भारत की साख़ पर 

दुनिया को क्या जवाब दोगे?

अभावों में स्वभाव 

ऐसे बदले कि

चिता का सामान न जुटा सके  

अंतिम संस्कार से 

वंचित हुए पार्थिव शरीर

कुछ बहा दिए गंगा में 

कुछ रेत में दबा दिए... 

माँसाहारी पशु-पक्षी 

लाशों को नौंचते दिखे 

वीडियो बनानेवाले 

वीभत्स कृत्य देखते रहे 

आँधी-तूफ़ान भी आकर 

उड़ाकर रही-सही सूखी रेत

रह-रहकर शव उघाड़ते रहे

करोना महामारी की

दूसरी लहर ने 

ढाया ऐसा क़हर 

छाया है मातम ही मातम 

गाँव-शहर!   

© रवीन्द्र सिंह यादव  

  

4 टिप्‍पणियां:

  1. आँख मूंद कर और नाक बंद कर सो जाओ फिर नदियों में बहती ये लाशें तुमको परेशान नहीं करेंगी.

    जवाब देंहटाएं
  2. लाशों की दुर्दशा ने आपको तो सोने नही दिया सर लेकिन कुछ लोग तो अब भी चादर से मुँह ढकाकर सो रहे हैं।
    आपकी सशक्त,साहसी लेखनी को मेरा बारंबार प्रणाम 🙏

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

ऑक्सीजन और दीया

उमसभरी दोपहरी गुज़री  शाम ढलते-ढलते  हवा की तासीर बदली  ज्यों आसपास बरसी हो बदली ध्यान पर बैठने का नियत समय  बिजली गुल हुई आज असमय  मिट्टी का...